दिशा योजना से दिव्यांगों का सभी प्रकार है विकास संभव

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : यह राष्ट्रीय न्यास के अंतर्गत शामिल चार दिव्यांगताओं वाले 0-10 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों के लिए एक प्रारंभिक उपाय और विद्यालय तैयारी योजना है और इसका उद्देश्य उपचारों, प्रशिक्षणों।
के माध्यम से दिव्यांगजनों के लिए प्रारंभिक उपाय हेतु दिशा केन्द्रों की स्थापना करना और उनके परिवार के सदस्यों को सहायता प्रदान करना है। योजना के अंतर्गत 23 परियोजनाओं को मंजूर किया गया ।

(ii) विकास (10 + वर्षों के लिए दिवस देखभाल योजना)
यह 10 वर्षों की आयु प्राप्त कर सके और अधिक के दिव्यांगजनों के लिए दिवस देखभाल योजना है, जब कि वे उच्चतर आयु वर्गों में शामिल होने की स्थिति मे हों,अंतरविषयक और व्यावसायिक कौशलों को बढाने हेतु मुख्ययता उन्हें उपलब्ध अवसरों के दायरे को बढाने के लिए एक दिवस।देखभाल योजना है। जिस समय के दौरान दिव्यांगजन विकास केन्द्र में होंगे केन्द्र उन्हें
दिवस देखभाल सहायता भी प्रदान करेगा। इसके अलावा, यह राष्ट्रीय न्यास अधिनियम के अंतर्गत आने वाले दिव्यांगजनों के परिवार के सदस्यों को उनकी अन्य जिम्मेदारियों को पूरा ।करने के लिए दिन के दौरान कुछ समय प्रदान करने के लिए समर्थन देने में भी मदद करता है।योजना के अंतर्गत 32 परियोजनाओं को मंजूर किया गया

(iii) दिशा-सह विकास योजना (डे केयर)
यह योजनाओं को लागू कर रहे थे, विलय योजना को लागू करने के लिए एक विकल्प दिया गया था। योजना के अंतर्गत 35 परियोजनाओं को मंजरी दी गई है,

Check Also

दिव्यांग पति नहीं देगा अपनी अलग रहने वाली पत्नी को गुजारा भत्ता।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कमार : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के …