दिव्यांगजनों के कौशल विकास के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपी)दिव्यांगजन

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांगजनों के कौशल विकास के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपी)दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग ने 21 मार्च, 2015 को कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई) के सहयोग से दिव्यांगजनों के कौशल विकास के लिए राष्ट्रीय कार्य
योजना (एनएपी) आरंभ की। एनएपी दिव्यांगजन अधिनियम के कार्यान्वयन हेतु योजना (सिपडा) की समग्र योजना के एक घटक के रूप में कार्यान्वित की जा रही है। इस कार्यक्रम के तहत, विभाग के प्रशासनिक नियंत्रण में संस्थानों जैसे कि राष्ट्रीय दिव्यांग वित और विकास निगम (एनएचएफडीसी), राष्ट्रीय संस्थान (एनआई) और समेकित क्षेत्रीय केंद्र (सीआरसी) के अतिरिक्त इस विभाग के साथ सूचीबद्ध प्रशिक्षण प्राप्त भागीदारों के माध्यम से कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। जबकि वर्ष 2015-16 के दौरान, प्रक्रियागत औपचारिकताओं जैसे कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए संगठनों के पैनल बनाने का काम किया गया था, निधियाँ वर्ष 2016-17 में जारी की गई। 31/12/2018 तक, दिव्यांगजनों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए 266
प्रशिक्षण भागीदारों (27 सरकारी एवं 239 गैर-सरकारी संगठन) को इस विभाग के साथ सचीबद्ध किया गया है। वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरान दिनांक 31.12.18 तक 18,465 दिव्यांगजनों के कौशल प्रशिक्षण के लिए 22.46 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है।
ईटीपी (एनजीओ) की सूची, जिन्हें एनएपी के तहत वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 और 2018-19 के लिए 10 लाख से अधिक की राशि का वितरण किया गया है (अब तक)

Check Also

अस्पताल के नाम पर घोटाला का अर्थ क्या है?

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार :राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अन्तर्गत इमरजेंसी कोविड रेस्पांस …