नाइजीरिया देश जैसी व्यवस्था दिव्यांगों के लिए भारत में भी होनी चाहिए।

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : नाइजीरिया देश में u.b.i बैंक ने आंख से दिव्यांग दृष्टिबाधित छात्रों के लिए ब्रेल लिपि में खाता खोलने की व्यवस्था की है इससे दृष्टि बाधित छात्रों को कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़े और वह भी देश के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान निभा सके और वह आत्मनिर्भर और स्वाबलंबी बन सके और दिव्यांग अधिकार अधिनियम 2016 के तहत समानता के अधिकार से अपना सर्वाधिक विकास कर सके इस नई शुरुआत का आरंभ नाइजीरिया के सबसे बड़े शहर लागोस में हुआ जहां बैंक में बेल लिपि खाता खोलने के लिए ब्रेल लिपि मैं फॉर्म उपलब्ध कराई गई जब नाइजीरिया देश में जो आर्थिक रूप से इतना पीछे वह दिव्यांगों के प्रति इस प्रकार का कार्य कर सकता है तो हमारा भारत देश जो विकास के पथ पर अग्रसर है वह इस प्रकार का दिव्यांग अधिकार अधिनियम 2016 के तहत यह व्यवस्था भारत में भी की जाए ऐसा मांग भारत सरकार से तोशियास सचिव ने भारत के सभी दिव्यांगों के तरफ से की है जिससे कि भारत का प्रत्येक दिव्यांग व्यक्ति भी अपना इस अर्थ युग में अर्थ से जुड़ी कर अपना सभी तरीके से विकास कर सके क्योंकि सभी के साथ अकड़ दिव्यांग चलेगा तभी अपना सर्वाधिक विकास करेगा महान दार्शनिक अस्तु का कहना था कि राज्य का प्रत्येक व्यक्ति जब विकास करेगा तभी हम विकसित समाज की कल्पना कर सकते हैं वैसे भी भारत में लगभग 15 करोड़ दिव्यांग है विश्व के आंकड़े के अनुसार तो इसके विकास के बारे में और संवैधानिक अधिकार के बारे में भी भारत सरकार को पहल करनी चाहिए ताकि दिव्यांगों का जीवन सुख बन सके दिव्यांगों की मुस्कान है हमारी पहचान तोशियास सचिव।

Check Also

दिव्यांग अधिकार अधिनियम 2016 के तहत दिव्यांगों का कल्याण या चुनावी जुमला।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : कुछ दिनों में मध्य प्रदेश में …