सरकार दिव्यांगों की सहायता कैसे करती है?

सर्वप्रथम न्यूज़ : दिव्यांगों एवं सामान मानव को उनके संवैधानिक अधिकार से जोड़ने के लिए तोशियास सचिव सौरभ कुमार के प्रयास से मिलेगा वंचितों को लाभ कई दिनों से उन्हें लाभ नहीं मिल पा रहा था मुख्यमंत्री चिकित्सा राहत फंड बिहार सरकार द्वारा रजिस्टर्ड अस्पताल में भर्ती मरीजों जो आर्थिक रूप से कमजोर है उन्हें मिलता है. इसके लिए डायरेक्टर स्वास्थ्य के नाम से आवेदन देना होता है. आवेदन के 15 दिनों के अंदर अस्पताल के खाते में रकम भेजने का प्रावधान है. बिहार में हर बुधवार को अधिकारियों की मीटिंग होती है मीटिंग के दौरान अधिकारियों द्वारा बीमारी के आधार पर रकम निर्धारित की जाती है. फिर निर्धारित अस्पताल को भेज दिया जाता है.2.5 लाख से कम आय वाल को लाभ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियो ने बताया कि मुख्यमंत्री चिकित्सा राहत फंड के लाभ लेने के लिए आवेदक या जिसके ऊपर आश्रित है उनका वार्षिक आय ढाई लाख रुपये से कम होना चाहिए, आवेदन के साथ आय प्रमाण पत्र लगना अनिवार्य होता है. इस योजना में कैंसर सहित कई गंभीर बीमारी भी शामिल है.आठ सौ आवेदन आते हैं हर सप्ताह स्वास्थ्य विभाग के ओएसडी सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि मुख्यमंत्री चिकित्सा राहत फंड का लाभ जरूरतमंद आवेदकों को लगातार मिल रहा है. आवेदन के बाद हर बुधवार को एक मीटिंग में स्क्रिनिंग की जाती है. जरूरत के हिसाब मरीजों को मुख्यमंत्री राहत फंड का पैसा अस्पताल को भेज दिया जाता है. अस्पताल में आवश्यकता अनुसार पैसा खर्च किया जाता है.डेढ माह से कर रहे इंतजार केस मरीज का इलाज अस्पताल में एलएनजेपी में अपने परिजन का इलाज करा रहे अंजनी ने बताया कि पिछले एक माह से चल रहा है. हिप रिप्लेसमेंट होना है, मगर पैसे के अभाव में सीएम चिकित्सा राहत फंड के लिए आवेदन किए एक माह गुजरने के बाद भी आज तक रिप्लेसमेंट नहीं हो पाया.पैसों के चलते रुका ऑपरेशन ट्रामा सेंटर में भर्ती मरीज के परिजन विजय ने बताया कि मरीज का ऑपरेशन होना है. ऑपरेशन के दौरान जो पार्ट लगेगा वो काफी महंगा है. इसके लिए सीएम चिकित्सा राहत फंड में आवेदन भी किया. डेढ माह गुजरने के बाद भी ऑपरेशन नहीं हो पाया. अस्पताल कि फाइल चली है जल्द ही हो जाएगा मगर कब होगा ये पता नहीं इन बीमारियों के मरीज को मिलता है लाभ (1) हृदय रोग 80 हजर से 1.90 (2) लाख कैंसर 80 हजार से 1.20 लाख (3) एड्स 1.20 लाख तक (4) 04 हड्डी रोग 1.20 से 1.78 लाख (5)प्लास्टिक सर्जरी 1.20 से 1.80 लाख (6) कोकिकियर इएम प्लांट 5.50 लाख रुपए तक (7) बोन मैरो ट्रांसप्लांट सर्जरी 5 लाख रुपए तक (8) ट्रांसजेंडर के लिए 1.50 लाख रुपए तक (9) हेपेटाइटिस के लिए 1 लाख रुपए तक (10) ट्रॉमा, ब्रेन हेमरेज, दुर्घटना 1 लाख रुपए तक (11) हीमोफीलिया सर्जरी 80 हजार रुपए तक (12) स्पाइनल सर्जरी के लिए 1.80 लाख तक (13) मेजर वासकुलर सर्जरी 2.40 लाख तक (14) गुर्दा रोग, हिप सर्जरी 3 लाख तक (15) नेत्र रोग के लिए 20 से 40 हजार तक (16) मस्तिष्क रोग के लिए 60 से 40 हजार तक दिव्यांगों की मुस्कान है हमारी पहचान निवेदन है की कोई भी योजना को धरातल पर उतारने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है इसलिए जिस दिव्यांगों ने अपना आवेदन किया है वह लाभ उठाएं सरकार के द्वारा अगर कोई भी करप्शन किया जाता है तो उसे साबित करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता तब जाकर किसी बीमार आदमी को उसका अधिकार मिलता है इसलिए आपसे निवेदन है कि अगर अपने आवेदन किया है तो लाभ उठा लीजिए।

Check Also

हीमोफीलिया बीमारी से क्या होता है।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज सौरभ कुमर : बिहार में विश्व हीमोफीलिया दिवस मनाया जाता …