बिना इजाजत सोशल मीडिया पर प्रचार पार्टी और प्रत्याशियों को पड़ सकता है भारी

सर्वप्रथम  न्यूज़ सौरव कुमार: सोशल मीडिया पर बिना अनुमति प्रचार करना पार्टी समेत प्रत्याशियों व समर्थकों के लिए भारी पड़ सकता है। सोशल मीडिया में ऐसी गतिविधियों पर चुनाव आयोग विशेष नजर बनाए हुए है। इसके लिए एक विशेष टीम तैयार की गई है।

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणवीर सिंह के अनुसार, सोशल मीडिया व टीवी पर किसी भी तरह के राजनीतिक प्रचार-प्रसार करने से पहले उसे चुनाव आयोग से प्रमाणित करना आवश्यक है। ऐसा नहीं करने पर वह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा। वहीं, उन्होंने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत के लिए तैयार किए ई-विजिल की जानकारी देते हुए बताया कि इस एप में अभी तक 377 शिकायत दर्ज कराई गईं। इसमें से 256 शिकायत सही पाई गई हैं, जिन पर कार्रवाई की जा रही है।

20 सदस्यीय न्यूज सेल बनाए गए : वहीं, सोशल मीडिया पर प्रचार-प्रसार की सामग्री पर निगरानी के लिए बनाए गए तंत्र की जानकारी देते हुए विशेष निर्वाचन अधिकारी सतनाम सिंह ने बताया कि इस पूरे तंत्र को एक विशेषज्ञ टीम संचालित कर रही है, जो टीवी, समाचार पत्रों समेत सभी सोशल मीडिया पर नियमित रूप से निगरानी कर रही है। इसमें से 20 सदस्यीय पेड न्यूज सेल हैं। वहीं, टीवी पर निगरानी के लिए 6 टीवी सेट लगाए गए हैं। चुनाव आयोग का कहना है कि बीते दिनों सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक सामग्री या चुनाव को प्रभावित करने की बातों को लेकर पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। इसलिए सावधानी जरूरी है।

शिकायत मिलने पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी

व्हाट्सएप पर किसी भी तरह की आपत्तिजनक सामग्री व आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन जैसे संदेशों से निपटने व उन्हें रोकने के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। इसके तहत शिकायत मिलते ही ऐसे मामलों को रोकने के लिए कार्रवाई की जाएगी। ऐसे संदेश प्रसारित करने वालों की पड़ताल कर उन पर शिकंजा कसा जाएगा। ताकि चुनाव पर असर न हो।

राजनीतिक दलों पर 16 एफआईआर दर्ज

दिल्ली में आदर्श आचार संहिता के में विभिन्न राजनीतिक दलों पर कुल 16 एफआईआर की गई हैं। ‘आप’ पर 9, भाजपा पर 6 तो कांग्रेस पर एक मामला दर्ज है। सोमवार को दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणवीर सिंह ने बताया कि आयोग ने सोमवार तक आचार संहिता के उल्लंघन में कुल 51 एफआईआर दर्ज की हैं। 35 मामलों में गैर राजनीतिक लोग व संस्थान हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी के अनुसार, आयोग ने पूरी दिल्ली से 210510 होर्डिंग, पोस्टर, बैनर हटाए हैं। इसके अलावा कुल 169 अवैध हथियार जब्त किए हैं।

  1. ‘आप’ को रैली का स्थान बदलने के लिए कहा था
    शकूरबस्ती में ‘आप’ की रैली की मंजूरी रद्द करने संबंधी सवाल का जवाब देते हुए स्पेशल सीपी चुनाव प्रवीर रंजन ने कहा कि ‘आप’ ने रानीबाग में एक निश्चित स्थान पर रैली करने की मंजूरी मांगी थी। शनिवार को उस स्थान पर साप्ताहिक बाजार लगता है। उसमें सीमित संख्या में लोग खड़े हो सकते हैं, लेकिन रैली में अधिक लोग आने थे। उनसे रैली का स्थान बदलने को कहा गया था। इसके बाद ‘आप’ ने स्थान बदलकर रैली की।

Check Also

दिव्यांग पति नहीं देगा अपनी अलग रहने वाली पत्नी को गुजारा भत्ता।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कमार : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के …