मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना बिहार…!

सर्वप्रथम न्यूज़ आदित्य राज पटना:- हैल्लो दोस्तो जैसा कि आपलोगो को मालूम ही होगा कि सरकार द्वारा चलाये जा रहे सभी योजनाओं को हम अपने वेबसाइट के जरिए आप सभी को बताने का प्रयास करते है, हमलोगों का यही मकसद है कि सभी लोग सरकार द्वारा चलाये जा सभी योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ ले सके। आज हम आपको बिहार सरकार द्वारा चलाये जा मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना  के बारे में बताने जा रहे है आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना के बारे में पूरी जानकारी देंगें, ताकि आप भी इस योजना का पूरा लाभ उठा सकें ,परन्तु किसी योजना का लाभ उठाने से पहले आपको उस योजन के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए! तो चलिए दोस्तों हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़े हैं और इस योजना का पूरा लाभ उठाएं!

बिहार राज्य सरकार ने प्रशिक्षण प्रदान करने और राज्य के बेरोजगार लोगों के लिए कम ब्याज दरों पर ऋण के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए ‘मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना’ नामक एक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है।

मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना बिहार में कई लोकप्रिय अल्पसंख्यक कल्याण योजनाओं के तहत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार के नेतृत्व में शुरू की गयी एक योजना है। इस योजना के तहत राज्य सरकार मुफ्त विशेष अल्पसंख्यक बेरोजगारों के लिए जो 18 से 45 वर्ष के बीच की आयु के हैं राज्य के श्रमिकों के लिए उनके काम से संबंधित प्रशिक्षण प्रदान करेगा। उन्होंने यह योजना 50,000 रुपये तक कम ब्याज दरों पर ऋण के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए शुरू की है। इस ऋण को अपने स्व-रोजगार के लिए लोगों को प्रदान किया जाएगा।

उद्देश्य और मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना की सुविधाएँ

  • मुख्यमंत्री श्रम शक्ति योजना का उद्देश्य स्वरोजगार में या रोजगार कहीं भी इन कौशल का उपयोग कर अल्पसंख्यक समुदाय के मुसलमानों से संबंधित लोगों के लिए तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करना है।
  • मुख्यमंत्री श्रमशक्ति योजना के तहत 1500-2000 प्रति माह प्रति व्यक्ति अल्पसंख्यक / मुस्लिम कारीगरों और साक्षर श्रम को निखारने और अपने कौशल का उन्नयन करने के लिए प्रदान किया जाएगा ।
  • प्रशिक्षण खत्म होने के बाद वे बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्त निगम द्वारा 50,000 रुपये का ऋण उनके स्व-रोजगार के लिए प्राप्त कर सकते हैं।
  • बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्त निगम द्वारा इन 6 महीनों में अल्पसंख्यक समुदाय / मुसलमान मजदूरों के लिए तकनीकी प्रशिक्षण का आयोजन किया गया है।
  • मुस्लिम महिलाएं जिनके पति या रिश्तेदारों ने उन्हें छोड़ दिया है बिहार सरकार की ओर से 10,000 रुपये पाने की हकदार हैं।

इस योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए पात्र और जरूरतमंद आवेदक योजना का लाभ पाने के लिए उनके जिले के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ से संपर्क कर सकते हैं।

आपलोगो को हमारी आर्टिकल कैसी लगी ये कॉमेंट में जरूर बताएं और ज्यादा से ज्यादा लाइक और शेयर करे ताकि सभी लोग को इस योजना की जानकारी मिल सके।।।

अगर हमारे आर्टिकल में कहीं गलती हो या सुधार की आवयश्कता हो तो आप हमें जरूर बताएं , ताकि हमलोग उनमें सुधार कर सके…!

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …