क्या है सर्विस वोटिंग जिससे आज पड़ा लोकसभा चुनाव 2019 का पहला वोट

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : लोकसभा चुनाव 2019 का पहला वोट शनिवार को अरुणाचल में आईटीबीपी के डीआईजी सुधाकर नटराजन ने डाला। लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होना है लेकिन उससे पांच दिन पहले ही उन्होंने पहला वोट डाला। नार्थ-ईस्ट के दूरदराज के इलाकों में स्थित आईटीबीपी की एक यूनिट ने आज पोस्टर बैलेट की मदद से सर्विस वोटिंग शुरू कर दी। आईटीबीपी एटीएस के डीआईजी सुधाकर नटराजन ने पहला वोट डाला।2019 के लोकसभा चुनाव में सर्विस वोटरों के मतदान की प्रक्रिया सबसे पहले आईटीबीपी ने शुरू की है। आईटीबीपी के उपमहानिरीक्षक सुधाकर नटराजन ने पहला पोस्टल बैलट डाला। उनके बाद दूसरे जवानों ने मतदान किया। आईटीबीपी के सभी केंद्रों पर अब मतदान की प्रकिया शुरू हो गई है। जब सभी केंद्रों पर पूरे वोट पड़ जाएंगे तब उन्हें स्पीड पोस्ट के माध्यम से संबंधित लोकसभा क्षेत्र में भेज दिया जाएगा।

जब मतगणना शुरु होती है तो सबसे पहले इन्हीं वोटों की गिनती की जाती है। आईटीबीपी के मुताबिक, स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहला अवसर है जब चुनाव आयोग ने व्यापक स्तर पर सर्विस वोटर्स के मतदान के लिए विशेष अभियान चलाया है। इसके लिए सोशल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और परंपरागत मीडिया का भरपूर इस्तेमाल किया गया है।

क्या है सर्विस वोटर ?

अगर कोई व्यक्ति सेना में अपनी सेवा दे रह है या अर्धसैनिक बलों जैसे असम राइफल्स, सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ या किसी भी सैन्य सेवा में है,और देश में या देश से बाहर अपनी सेवा दे रहा है ऐसे लोगों को सर्विस वोटर की श्रेणी में रखा जाता है। इस बार के लोकसभा चुनाव में करीब 30 लाख सर्विस वोटर मतदान करेंगे।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …