ट्रेन के शौचालय में अब नहीं मिलेंगे स्टील के मग, रेलवे ने लिया बड़ा फैसला

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : ट्रेन से बराबर यात्रा करने वाले झांसी के यात्रियों के लिए बड़ी खबर है। जल्द ही रेलवे ट्रेन के भारतीय पद्धति के शौचालय में जंजीर से बंधे मग (पानी का डब्बा) की व्यवस्था समाप्त करने जा रहा है। उसकी जगह वेस्टर्न शौचालय में लगने वाले हैंड शॉवर लगाए जा रहे हैं। यह शॉवर जल्द ही मंडल से संचालित होने वाली ट्रेनों के 534 कोचों में लगेंगे। रेल मंडल से संचालित 25 से अधिक ट्रेनों में 508 कोच लगे हैं। 26 कोच स्पेयर मेें रहते हैं। इन सभी कोचों में बायो टॉयलेट की सुविधा प्रदान कर दी गई है।

इसके लिए उक्त कोचों में 1950 बायो टैंक लगाए गए हैं। साथ ही, प्रशासन कोच और उनके शौचालय को और बेहतर बनाने में भी लगा हुआ है। भारतीय पद्धति के शौचालयों में जंजीर से बंधे मग (पानी के डब्बा) की व्यवस्था समाप्त करने जा रहा है।

इसकी जगह वेस्टर्न शौचालय में लगने वाले हैंड शॉवर लगाए जा रहे हैं। विभागीय स्तर पर यह काम होगा। जनसंपर्क अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि चार माह में इस काम को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

यह ट्रेनें होती हैं संचालित
मंडल से झांसी-बांद्रा एक्सप्रेस
झांसी – लखनऊ इंटरसिटी
प्रथम स्वतंत्रता संग्राम एक्सप्रेस
झांसी-इटावा एक्सप्रेस
झांसी-इंदौर एक्सप्रेस
उत्तर प्रदेश संपर्क क्रांति
बुंदेलखंड एक्सप्रेस
चंबल एक्सप्रेस
झांसी – कानपुर पैसेंजर
झांसी – लखनऊ पैसेंजर
झांसी- खजुराहो पैसेंजर
झांसी- बीना पैसेंजर
झांसी- आगरा पैसेंजर
झांसी- बांदा पैसेंजर
ग्वालियर – आगरा पैसेंजर
झांसी- इटारसी पैसेंजर

Check Also

दिव्यांग पति नहीं देगा अपनी अलग रहने वाली पत्नी को गुजारा भत्ता।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कमार : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के …