पहली बार / रेलवे स्टेशन पर हवा से बनाया एक लीटर पानी 5 रुपए में, बोतल समेत कीमत 8 रु.

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : सिकंदराबाद. तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर सीधे हवा से बनाया गया पानी बेचा जा रहा है। मेघदूत तकनीक से बने इस पानी की कीमत बोतल के साथ 8 रुपए है। ग्राहक अपनी बोतल में इसे पांच रुपए में खरीद सकता है। जल शक्ति मंत्रालय की ओर से इस तकनीक को सेहत के अनुकूलऔर सुरक्षित घोषित करने के बाद साउथ सेंट्रल रेलवे ने यहां गुरुवार को कियोस्क इंस्टॉल किया है। इसका ऑटोमैटिक वॉटर जेनरेटर रोजाना 1000 लीटर पानी बनाता, जो स्टील के एक टैंक में जमा होता है।खाद्य मानकों के अनुरूप यह टैंक पानी को खराब नहीं होने देता और हमेंशा ताजा बनाए रखता है। साउथ सेंट्रल रेलवे (एससीआर) ने कियोस्क को जल संरक्षण और हरित प्रयासों के तहत अपनाया है। हवा से पानी निकालने की मेघदूत नाम की तकनीक को मैत्री एक्वाटेक ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत विकसित किया है।

हर मौसम में काम करता है सिस्टम

एससीआर के अधिकारियों के मुताबिक, मशीन पर्यावरण के अनुकूल है। यह किसी पानी के स्रोत पर निर्भर नहीं है। कुछ भी वेस्ट उत्पन्न नहीं करती और हर मौसम में काम कर सकती है। यह शोर भी कम करती है। हमेशा तापमान और नमी के स्तर को डिस्प्ले पर दिखाती है। मशीन हवा से सीधे पानी सोखती है और कई चरणों से गुजरने के बाद पानी टैंक में जमा होता है।

इन चरणों में हवा से बन जाता पानी

सबसे पहले हवा का बहाव मशीन से गुजरता है, जहां उसमें मौजूद डस्ट पार्टिकलसमेत दूसरे प्रदूषक तत्वों को सोख लिया जाता है।

मशीन से छनकर निकलने वाली हवा सीधे कूलिंग चैंबर में जाती है, जहां इसे अत्यधिक (कंडेंस) ठंडा किया जाता है। यहीं कंडेस्ड एयर पानी की बूंद में बदलती है। इसके बाद बूंद-बूंद जमा होती है।

जमा हुआ पानी भी कई स्तर पर फिल्टर होता है। इससे पानी में मौजूद दूसरे प्रदूषक तत्व हट जाते हैं और पानी शुद्ध हो जाता है।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …