ट्रेन में रिज़र्वेशन के समय एक बार में सिर्फ़ 6 ही सीटे क्यों बुक होती है ?

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : नियम यह है कि परिवार के केस में 6 सीटें और परिवार के अलावा 4 सीटें एक टिकिट पर बुक होती हैं।

जब कम्प्यूटराइज्ड रिजर्वेशन 1985–86 में आया था, तब ये नियम बने हैं और तब से बिना किसी बदलाव के ऐसा ही चल रहा है। इसका मतलब है किसी को कोई खास दिक्कत नहीं हुयी।

नियम बनाने हम और आप से योग्य व्यक्तियों की कोई समिति बनी होगी। उसकी क्या सोच रही होगी, उस तक तो हम और आप नहीं पहुँच सकते लेकिन एक विश्लेषण जरूर कर सकते हैं। देखिये, एक परिवार, जिसमें माता-पिता और उनके बच्चे शामिल हैं, में 6 की संख्या को एक आदर्श मान लिया गया होगा। उस समय तक परिवार नियोजन का भी असर हो ही चुका था। उस समय भी 4 बच्चे होना ज्यादा ही माना जाता था। इसलिए 6 सीट का नियम बना दिया गया।परिवार के अलावा पार्टी (दोस्तों का ग्रुप) के लिए 4 सीट का नियम बनाया गया। ऐसा इसलिए कि दलाल लोग एक ही टिकिट पर 10–12 लोगों का रिजर्वेशन न कराने लगें कहीं ?सबसे मुख्य कारण – टिकिट का साइज निर्धारित करना रहा होगा। क्योंकि एक व्यक्ति का टिकिट बनेगा तो भी उतना ही बड़ा टिकिट मिलना है, 2, 3, 4, 5 में भी उतना ही बड़ा टिकिट बनना है। तो मान लो यदि 10 यात्रियों के बराबर का टिकिट का साइज बना दिया जाता तो 1, 2, 3, 4 व्यक्तियों के टिकिट बनने में स्टेशनरी का कितना दुरुपयोग होता। इस पाइंट को आप बखूबी समझ रहे होंगे। और मुझे लगता है कि यही सबसे बड़ा कारण रहा होगा 6/4 सीट का नियम बनाने में।

अब रही संयुक्त परिवार की समस्या, तो वहाँ 6 से ज्यादा व्यक्ति होने पर 2 रिजर्वेशन फार्म भरकर लोग काम चला लेते हैं। फार्म एक के बाद एक देने पर सीटें एक ही कोच में मिलने का चांस रहता है।

शादी – पार्टियों के केस में आप 20, 30, 40… जितने भी सदस्य हों उनका विवरण (नाम, लिंग, उम्र) एक सादा पेपर पर प्रार्थना पत्र के रूप में लिखकर उसे रेलवे के डिवीजनल कामर्शियल मैनेजर से एप्रूव करा लीजिए, फिर आपको सारे टिकिट एक साथ मिल जाएंगे। हालाँकि एक टिकिट पर 6 लोगों का ही टिकिट बनेगा क्यों कि टिकिट का साइज ही वही है। 6–6 के टिकिट बनते जायेंगे एक ही बार में जब तक आपकी पूरी पार्टी के टिकिट नहीं बन जाते।मैं समझता हूँ आप संतुष्ट हुए होंगे।

मुझे पुराना नियम ही याद था कि पहले एक फार्म पर परिवार के लिए 6 और पार्टी के केस में 4 सीट का रिजर्वेशन होता था। लेकिन अभी एक रिजर्वेशन फार्म उठाकर देखा तो पाया कि अब एक फार्म पर 6 सीट से ज्यादा व्यक्तियों का रिजर्वेशन नहीं होगा। 4 सीट वाला नियम इसलिए समाप्त कर दिया होगा कि 6 नाम एक ही परिवार के हैं या नहीं, इस पर बुकिंग विंडो पर विवाद होता होगा।

लेकिन तत्काल रिजर्वेशन फार्म (गुलाबी रंग) पर अधिकतम 4 व्यक्तियों का ही रिजर्वेंशन हो सकता है।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …