एक ट्रेन को चलाने के लिए, लोको पायलट के अलावा और कितने कर्मचारियो की मेहनत लगतीं है?

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : एक ट्रेन चलाने के लिए सबसे पहले इंफ्रास्ट्रक्चर चाहिए।इंफ्रास्ट्रक्चर चार इंजीनियरिंग विभाग मिलकर बनाते हैं। ये इस प्रकार होता है।

  • रेलवे ट्रैक का बनाना और उसका मेनटेनेन्स करना। यह सिविल इंजिनियरिग विभाग करता है। इसमें पुलिया, छोटे और बड़े ब्रिज, टनल और रेलवे स्टेशन बिल्डिंग बनाना होता है।
  • रेलवे इलैक्ट्रिफिकेशन स्ट्रक्चर को खड़ा करना। यह काम इलैक्ट्रिकल विभाग करता है।
  • सिगनल खड़े करना और उनको एक सेन्ट्रल पेनल से चलाने की व्यवस्था करना। रेलवे की अलग टेलीफोन व्यवस्था चालू करना और इन सब के रखरखाव करने की व्यवस्था करना। यह काम सिगनल एवं दूर संचार विभाग करता है।
  • रेलवे एंजिन, सवारी और मालगाड़ियों के डिब्बे बनाना एवं उनका रखरखाव करना। यह मैकेनिकल विभाग का काम है।

ये काम तो बहुत शार्ट में लिखे हैं। इन चारों इंजीनियरिंग विभाग के काम बहुत विस्तृत हैं। ये विभाग पर्दे के पीछे रहते हैं। इन्हें आम पब्लिक नहीं जानती। आम पब्लिक तो जानती है इन्हें :—

  • स्टेशन मास्टर
  • रेलवे टिकिट रिजर्वेशन क्लर्क
  • बुकिंग क्लर्क
  • टी.टी.ई.
  • गार्ड, और
  • लोको पायलट

अब इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार है ट्रेन प्लेटफार्म पर खड़ी हुयी है, उसमें लोकोपायलट तो प्रश्नकर्ता ने ही मान लिया है कि है और ये पूछा है कि ट्रेन चलाने के लिए और किन किन कर्मचारियोंं की जरुरत है।तो सीरियल वाई सीरियल मे और कर्मचारियों की लिस्ट नीचे बनाता हूँ।

  1. ट्रेन में एक गार्ड।
  2. एक सहायक लोको पायलट।
  3. टी.टी.ई.।
  4. पेन्ट्री स्टाफ मैनेजर सहित।
  5. ट्रेन सुपरिन्टेन्डेन्ट (महत्वपूर्ण गाड़ियों में)।
  6. स्टेशन मास्टर अगले स्टेशन से लाइन क्लियर लेने और देने के लिए और सिगनल देने के लिए।
  7. कंट्रौल आफिस जहाँ हर विभाग के कंट्रौलर बैठते हैं। यहीं से सारा मूबमेन्ट कंट्रौल होता है। स्टेशन मास्टर भी सैक्शन कंट्रौलर से ही ट्रेन चलाने की अनुमति माँगता है।
  8. पाइंट्स मैन, एंजिन को जोड़ना, शंटिग करना।
  9. कैरिज एन्ड वैगन स्टाफ।
  10. इलैक्ट्रिकल ट्रेन लाइटिंग स्टाफ।
  11. सिगनल और दूरसंचार कर्मचारी।
  12. ट्रैक्शन डिस्ट्रीब्यूशन स्टाफ
  13. एअरकंडीशनिंग स्टाफ।
  14. करंट बुकिंग और रिजर्वेशन बुकिंग के लिए स्टाफ।
  15. पार्सल बाबू।
  16. मालगाड़ी है तो गुड्स क्लर्क।
  17. रास्ते में पढ़ने वाले हर रेलवे फाटक पर गेटमैन, जो स्टेशन मास्टर के आदेश पर गेट बन्द करेगा।
  18. रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स। ट्रेन एस्कार्टिंग स्टाफ GRP.
  19. बस इतना स्टाफ चाहिए। इसके बाद सिगनल मिलने पर गाड़ी चल पड़ेगी। स्टेशन मास्टर और पाइंट्स मैन रास्ते के हर स्टेशन पर चाहिए।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …