ब्लूटूथ शब्द का जन्म कैसे हुआ इससे जानकर चौक जाएंगे आप

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार :Bluetooth के पीछे की कहानी बड़ी इंटरेस्टिंग है | 10वीं सदी में एक स्कैंडिनेवियाई राजा हुआ करता था जिसके समय से ये शब्द Bluetooth प्रचलित हुआ था | जानते है इसके पीछे की पूरी कहानी |

टेक्नोलॉजी की दुनिया में Bluetooth का आगाज़ बहोत ही क्रांतिकारी रूप से हुआ था, इससे ना सिर्फ मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल को और बेहतर बनाया बल्कि फाइल शेयरिंग को भी बहुत ही मामूली काम बना दिया | इसने पूरी दुनिया को wireless communication का नया मतलब सिखा दिया | लेकिन क्या कभी आपने सोचा की इस तकनीक को Bluetooth नाम कैसे मिला ? सोचने वाली बात ये भी है की Bluetooth शब्द का मूल कहा से आया होगा |

जो भी हो, लेकिन इसके पीछे की कहानी बड़ी ही इंट्रेस्टिंग है |

1996 में कुछ बड़ी टेक कंपनीयो – Intel, Ericsson, Nokia, और बाद में IBM ने मिलकर टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री में शोर्ट-रेंज रेडियो लिंक के लिए नया स्टैण्डर्ड बनाना चाहते थे, जिससे की कुछ नए काम किए जा सके  इसके लिए हर कंपनी ने खुद की शोर्ट-रेंज रेडियो टेक्नोलॉजी develop की, लेकिन जो भी नाम उन्होंने इस टेक्नोलॉजी को दिए वो किसी के भी गले नही उतरे | उसी समय कहानी में मध्ययुग के स्कैंडिनेवियाई राजा की एंट्री होती है |

स्कैंडिनेवियाई राजा Harald Gormsson को स्न 940 से स्न 986 तक डेनमार्क और नॉर्वे पर शासन के लिए जाना जाता है | राजा Harald स्न 940 में अपने पिता के अधूरे काम जो की था – विभिन्न डैनिश जनजातियों को संगठित करके एक डैनिश साम्राज्य बनाना, को पूरा करने के लिए काफी प्रसिद्द हुआ | भले ही वो इस एकीकरण को कुछ वर्षो तक ही कायम रख पाया |

कई मध्यकालीन शासकों की तरह उसका भी एक उपनाम था : Blatonn जो पुरानी नॉर्स भाषा में, और Blatand डेनिश भाषा में | जिसका मतलब था Bluetooth | उसके उपनाम के सही मूल पर आज भी बहस जारी है, लेकिन बहुत से विद्वानों का मानना है की राजा Harald को Bluetooth कहा जाता था, क्योकि उनके पास एक विशिष्ट मृत दांत था, जो वास्तव में black और blue रंग का था | ये थोडा समझ पड़ता है |

लेकिन किसी राजा का wireless communication के साथ कनेक्शन कैसे बना ? वो एकता बनाने वाला राजा था |

1990 के मध्य में wireless communication क्षेत्र में एकजुटता की जरूरत थी | बहुत सारे corporation प्रतिस्पर्धा का माहोंल बना रहे थे और गैर-संगत मानकों पर काम कर रहे थे | बहुत सारे लोगो ने माना की इस विभाजन के माहोंल से wireless तकनीक के व्यापक उपयोग में काफी परेशानी आ रही थी |

यही वो समय था जब इंटेल के इंजीनियर Jim Kardach ने कॉर्पोरेट मध्यस्थ की भूमिका निभाते हुए बहुत सारी कंपनियों को एकजुट किया | वो चाहते थे की सभी कंपनिया मिलकर low-power, short-range radio connectivity के लिए उद्योग के व्यापक मानक बनाए | उन्हें Ericsson कंपनी के इंजीनियर Sven Mattisson का बराबर सहयोग मिला |

एक बार इतिहास पर बातचीत के दौरान Mattisson ने Kardach को बताया की उन्होंने एक किताब पढ़ी, जिसका नाम The Longships by Frans G. Bengtsson था, जिसमे राजा Harald “Bluetooth” Gormsson के शासनकाल के दौरान डेनिश योद्धाओं के एकीकृत करने का विवरण किया गया था | कुछ समय बाद Kardach ने Vikings by Gwyn Jones नामक किताब पढ़ी जिसमे हेराल्ड के शासनकाल को चित्रित किया गया था, जिसे Kardach ने प्रतिस्पर्धा दलों को एक साथ लाने के लिए एक आदर्श प्रतीक के रूप में देखा |

Kardach ने इसके बारे में कहा “ ब्लूटूथ को 10 वीं सदी में डेनमार्क के दूसरे राजा, राजा Harald Bluetooth के समय से उधार लिया गया था; राजा Harald जो स्कैंडेनेविया को एकजुट करने के लिए प्रसिद्ध हुए | ठीक उसी तरह हमारा उद्देश्य है एक short-range wireless link के साथ PC और Cellular उद्योगों को एकजुट करना ” |

“Harald ने डेनमार्क को एकजुट किया और उसके निवासियों को ईसाई बनाया !” Kardach ने एक दशक बाद एक कॉलम में लिखा | “ये मेरे साथ हुआ की इस पुरे प्रोग्राम को इतना अच्छा कोडनेम मिला” |

आखिरकार सारी इच्छुक पार्टिया एकसाथ हुई ब्लूटूथ विशेष रुचि समूह के रूप में, जिन्होंने मिलकर वो wireless communication स्टैण्डर्ड बनाया जिसे आज हम जानते है और काफी पसंद करते है | “Bluetooth” के पीछे का मूल कारण केवल उस टेक्नोलॉजी को कोडनेम देना था | अंततः यह इस स्टैण्डर्ड टेक्नोलॉजी के official नाम के तौर पर जाना जाने लगा |

ये ऐतिहासिक कहानी यही ख़त्म नहीं होती | Bluetooth का logo लोगो भी “Harald Blatand” से बनाया गया है, इमेज के अनुसार आप देख सकते है की राजा Harald Bluetooth के समय के दो फेमस चिन्हों ᚼ और ᛒ को मिलाकर Bluetooth का logo तैयार किया गया है, जिसमे ᚼ का मतलब “H” और ᛒ का मतलब “B” से है | इन दोनों के सम्मिलित रूप को ब्लू बैकग्राउंड के साथ मिलाने पर आपको Bluetooth का परिचित logo मिलेगा

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …