मनरेगा में दिव्यांगों के लिए चिन्हित विशिष्ट कार्य

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : मनरेगा में दिव्यांगों के लिए चिन्हित विशिष्ट कार्य मनरेगा में दिव्यांग व्यक्ति की क्षमता अनुसार कार्यों के संभावित वर्गीकरण में पेयजल व्यवस्था, बच्चों की देखभाल करने में सहायता, पौधरोपण, सिंचाई-नहर खोदना, गड्ढों को भरना, ट्रॉलियों में रेत भरना अथवा फेंकना, भवन निर्माण-कंक्रीट सामग्री तैयार करना, कंक्रीट व अन्य निर्माण सामग्री को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना, सीमेंट और ईंट ले जाना, परातों में मिट्टी अथवा कंकड़ भरना, नवनिर्मित दीवार पर पानी छिड़कना, कुएं को गहरा करना, कुएं के अंदर खोदी गई मिट्टी से टोकरी भरना, कुएँ से कीचड़ खोदकर बाहर निकालना, तसलों में कूड़े को भरना, परातों में भरी सामग्री को ट्रालियों में डालना, पत्थर ढोना, पत्थरों को सही स्थान पर रखना, भूमि को समतल करना, खेतों में बांध लगाना, जल संरक्षण भूमि में गड्ढे खोदना, गड्ढों से खोदी गई मिट्टी को किसी अन्य स्थान पर रखना, जल छिड़काव करना एवं कंकड़ रखना शामिल है।दिव्यांगों को एक साल में 150 दिन का रोजगार इसके साथ ही सरकार दिव्यांगों को एक साल में 150 दिन का रोजगार देने का काम करेगी. केंद्र सरकार की योजना के तहत साल में 100 दिन का रोजगार दिया जा सकता है. इसके लिए 50 अतिरिक्त दिन के रोजगार के लिए सरकार को वित्तीय प्रबंध की आवश्यकता पड़ेगी. इसके साथ ही दिव्यांगों के लिए अलग से जॉब कार्ड जारी किए जाएंगे. जिससे आसानी से उनके कार्य को विभाजित किया जा सके. पंचायतीराज विभाग ने दिव्यांगों के लिए नरेगा में विशेष प्रावधान है जिसका विशेष उल्लेख दिव्यांग अधिनियम 2016 में प्राप्त होता है।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …