दिव्यांग व्यक्ति कोरोना महामारी के सुई लेने से डरे मत यह योजना करेगा आपका बचाव

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांगों को कोरोना से डरने की आवश्यकता नहीं यह योजना देगा आपको सुरक्षा कोविड-19 के टीकाकरण (COVID-19 Vaccination) को लेकर अगर आपके मन में डर और भय है तो आपके लिए अच्छी खबर है. कोरोना का टीका (Corona Vaccine) लगने के बाद अगर आपकी तबीयत खराब हुई और आप अस्पताल में भर्ती हुए तो इसका खर्च हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी उठाएगी. भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने इस बाबत एक निर्देश जारी किया है. बता दें कि भारत में 18 मार्च तक 3.07 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन का पहला डोज दिया गया है.IRDAI ने एक बयान में कहा, यह संदेह जताया गया है कि अगर कोविड-19 टीकाकरण के बाद कोई रिएक्शन से अस्पताल में भर्ती होना पड़े तो क्या हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी द्वारा कवर किया जाएगा. इरडा ने कहा, कोविड-19 का टीका लगने के बाद प्रतिकूल असर से अस्पताल में भर्ती होने पर हेल्थ पॉलिसीहोल्डर्स का खर्च कंपनियां उठाएंगी. हॉस्पिटेलाइजेशन हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत पॉलिसी के नियमों और शर्तों के अंतर्गत कवर है.बता दें कि बीमा नियामक ने हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में कोविड-19 के इलाज को शामिल कराया था, लेकिन इसमें टीके का खर्च शामिल नहीं किया गया था, जो अब भी पॉलिसी से बाहर है.कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 से शुरू हो चुका है. अब तक 3.07 करोड़ लोगों को वैक्सीन का डोज लग चुका है. इस चरण में 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिकों और 45 से 59 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों को शामिल किया गया है.IRDAI नोटिफिकेशन से साफ है कि टीकाकरण के बाद रिएक्शन की वजह से किसी को अस्पताल में भर्ती होने पर अस्पताल में उसका इलाज किया जाएगा है. इसे किसी अन्य बीमारी की तरह माना जाएगा और इसका खर्च बीमा कंपनी द्वारा कवर किया जाएगा. IRDAI की यह घोषणा लोगों को बिना किसी भय और विश्वास के साथ कोविड-19 वैक्सीन लेने के लिए और अधिक आश्वस्त करेगी.वैक्सीन के लिए ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशनअगर आप भी कोरोना का टीका लेना चाहते हैं तो CO-WIN ऐप से अप्लाई कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के बाद फोन पर SMS के जरिए टाइमिंग की जानकारी दी जाएगी. कोरोना वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन के लिए एक पहचान पत्र जरूरी है. पहचान पत्र के लिए वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, बैंक या पोस्ट ऑफिस पासबुक काम में आ सकते हैं. जिस पहचान पत्र को आप रजिस्ट्रेशन के दौरान सबमिट करेंगे वही आपको वैक्सीनेशन के दौरान दिखाना होगा.

Check Also

दिव्यांग पति नहीं देगा अपनी अलग रहने वाली पत्नी को गुजारा भत्ता।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कमार : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के …