दिव्यांग लोगों को विशेष ध्यान देना चाहिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांग लोगों को विशेष ध्यान देना चाहिए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय इन बातों का विशेष ख्याल रखें किसी प्रकार की कोई भी जानकारी ना छुपाएं यह क्लेम रिजेक्ट होने का सबसे आम कारण है. कई लोग यह सोच कर जानकारी को छुपाते हैं कि उन्हें अतिरिक्त प्रीमियम देना होगा या वे इससे पॉलिसी के पात्र नहीं होंगे. जैसे यदि आप ध्रूमपान करते हैं, तो आपको इसका उल्लेख करन चाहिए, अन्यथा आपका दावा खतरे में पड जाएंगे.पहले से मौजूद बीमारी के बारे में जरूर बताएं पूर्व- मौजूदा स्थिति का अर्थ है कोई भी बीमारी या चोट जो आपको स्वास्थ्य बीमा योजना लेने से पहले हो सकतीहै. पॉलिसी खरीदते समय एक बार घोषित होने के बाद, बीमाकर्ता पहले से मैजूद स्थिति या दोनों के लिए प्रतीक्षा अवधि/ चार्ज लोडिंग शामिल कर सकता है जब बीमा की बात आती है तो ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है का पालन अवश्य करें. कोई भी विसंगति दावा अस्वीकृति का कारण बन सकती है और निश्चित तौर पर आप ऐसी निराशा स्थिति का सामना नहीं करना चाहेंगे. इसलिए सभी जानकारियां सही-सही भरें.सुनिश्चित करें कि आपकी पॉलिसी लैप्स नहीं हुई है. क्योंकि दावे केवल एक्टिव पॉलिसी के लिए वितरित किए जाते हैं. एक लैप्स पॉलिसी का अर्थ है कवरेज का अंत. आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपने समाप्ति तिथि से पहले अपने स्वास्थ्य बीमा का नवीनीकरण कर लिया है.अस्पताल में भर्ती होने पर समय पर सूचना देना समय पर सूचना देना जरूरी है. यदि आप किसी को समय पर सूचित नहीं करते हैं तो कई पॉलिसी प्रदाता आपके स्वास्थ्य बीमा दावे को अस्वीकार कर सकते हैं. एक पूर्व – निर्धारित समय सीमा होती है, जिसका आपको पालन करना चाहिए. ऐसा करने में विफल रहने पर दावा खारिज हो सकता है. पॉलिसी कवरेज के बारे में अच्छी तरह जान लेनाएख सिंगल हेल्थ पॉलिसी चिकित्सा आपात स्थिति से संबंधित हर पहलू को कवर नहीं कर सकती है. कई एक्सक्लूशंस कवर नहीं किए जाते. आपको यह समझने के लिए अपनी पॉलिसी में इस सूची को अच्छी तरह से देखना चाहिए कि क्या क्या कवरेज से बाहर है?सुनिश्तिच करें कि आप इलाज के लिए किसी प्रतिष्ठित केंद्र में जाएं. बीमाकर्ता के पैनल में शामिल अस्पतालों में कैशलेस सुविधा का विकल्प चुनना सबसे अच्छा है. यदि आप इन बातों को ध्यान में रखतें हैं, तो आपका क्लेम आसानी से क्लीयर हो जाएगा.

Check Also

दिव्यांग पति नहीं देगा अपनी अलग रहने वाली पत्नी को गुजारा भत्ता।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कमार : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के …