टैक्टाइल पाथ (Tactile Path) का प्रयोग कहां किया जाता है

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : जब आप मेट्रो स्टेशन (Metro Station) जाते होंगे तो देखते होंगे कि वहां जमीन पर उबड़-खाबड़ टाइल्स (Tiles) लगे होते हैं. ये टाइल्स सीधे और गोल आकार के होते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि मेट्रो स्टेशन (Metro Station) पर इन टाइल्स को क्यों लगाया जाता है? ज्यादातर लोग ये सोचते हैं कि ये उबड़-खाबड़ टाइल्स इसलिए लगाए जाते हैं जिससे कोई फिसले नहीं लेकिन ऐसा नहीं है. इस खबर में जानिए मेट्रो स्टेशन पर सीधे और गोल आकार के टाइल्स क्यों लगे होते हैं जानिए पीले रंग के टाइल्स का राज बता दें कि मेट्रो स्टेशन पर सीधे और गोल आकार के टाइल्स अंधे (Blind) लोगों के लिए लगाए जाते हैं. इन उबड़-खाबड़ टाइल्स के सहारे वो लोग जिन्हें आंखों से दिखाई नहीं देता है वो स्टेशन पर चल सकते हैं. स्टेशन पर लगे गोल टाइल्स का संकेत होता है कि रुक जाएं. वहीं सीधे टाइल्स का मतलब होता है कि चलते रहें. इन टाइल्स की मदद से अंधे लोगों को चलने में बहुत सुविधा होती है. इन टाइल्स को टैक्टाइल पाथ (Tactile Path) कहा जाता है.टैक्टाइल पाथ का है एक और फायदा जान लें कि इन टाइल्स का मेट्रो स्टेशन पर एक और फायदा भी है. मेट्रो स्टेशन पर कई तरह की केबल, पाइप और वायर एक जगह से दूसरी जगह को कनेक्ट करने के लिए लगाई जाती हैं. पाइप, केबल और वायर को इन टाइल्स के नीचे से ही ले जाया जाता है. अगर इन कनेक्शन में कोई प्रॉब्लम होती है तो इन टाइल्स को आसानी के हटाकर कनेक्शन में आ रही प्रॉब्लम को ठीक कर लिया जाता है. इन टाइल्स को हटाना आसान होता है. कनेक्शन ठीक होने के बाद इन टाइल्स को दोबारा लगा दिया जाता है.मेट्रो स्टेशन पर दिव्यांगों के लिए होती हैं ये सुविधाएं इसी तरह दिव्यांगों के लिए मेट्रो स्टेशन पर कई अन्य सुविधाएं भी होती हैं. दिव्यांगों के लिए सीढ़ियों की जगह रैंप (Ramp) होता है. इसके अलावा रैंप के साथ हैंडरेल (Handrail) भी होता है, जिसे पकड़कर वो चल सकते हैं. मेट्रो में दिव्यागों के लिए सीटें रिजर्व होती हैं. मेट्रो की लिफ्ट में बटन पर ब्रेल (Braille) लिपि में भी लिखा होता है, जिससे अंधे लोग छूकर पहचान कर सकें. दिव्यांगों के लिए अलग से टॉयलेट भी होते हैं.मेट्रो स्टेशन पर सीधे और गोल आकार के टाइल्स दृष्टिहीन (Blind) लोगों के लिए लगाए जाते हैं. इन उबड़-खाबड़ टाइल्स के सहारे वो लोग जिन्हें आंखों से दिखाई नहीं देता है वो स्टेशन पर चल सकते हैं. स्टेशन पर लगे गोल टाइल्स का संकेत होता है कि रुक जाएं. वहीं सीधे टाइल्स का मतलब होता है कि चलते रहें. इन टाइल्स की मदद से दृष्टिहीन लोगों को चलने में बहुत सुविधा होती है. इन टाइल्स को टैक्टाइल पाथ (Tactile Path) कहा जाता है.

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …