भारत और दुनिया में दिव्‍यांगता पर फैक्‍टशीट

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : भारत और दुनिया में दिव्‍यांगता पर फैक्‍टशीट भारत की दिव्‍यांग आबादी 2.68 करोड़ है, जो जनसंख्या का 2.2 प्रतिशत है:a. दिव्‍यांगता की व्यापकता ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक है, जो 2.24 प्रतिशत है.b. शहरी क्षेत्रों में, 2.17 प्रतिशत दिव्‍यांग हैं.c. भारत में, 2 प्रतिशत महिलाओं की तुलना में 2.4 प्रतिशत पुरुष दिव्‍यांग हैं.2. हालांकि, वर्ल्‍ड बैंक का कहना है कि दुनिया भर में दिव्‍यांग लोगों की संख्या बहुत अधिक है. अनुमान है कि भारत में 8 करोड़ से अधिक लोग किसी न किसी रूप में दिव्‍यांगता के साथ जी रहे हैं, जबकि दुनिया भर में लगभग 20 प्रतिशत गरीब लोग किसी न किसी रूप में दिव्‍यांगता से ग्रस्त हैं.3. इस बात के प्रमाण हैं कि दिव्‍यांग लोगों को स्वास्थ्य और पुनर्वास सेवाओं तक पहुंचने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का अनुमान है कि a. दुनिया भर में 200 मिलियन लोगों को चश्मे या अन्य लो विजन वाले डिवाइस की जरूरत होती है. पर उनकी पहुंच इन तक संभव नहीं होती.b. दुनिया में 70 मिलियन लोगों को व्हीलचेयर की जरूरत है, लेकिन केवल 5-15% के पास ही व्हीलचेयर है.c. वैश्विक स्तर पर 360 मिलियन लोगों को मध्यम से गहन श्रवण हानि होती है और श्रवण सहायता की जरूरतों का केवल 10% हिस्‍सा ही पूरा हो पाता है.d. दिव्‍यांगों में से आधे लोग हेल्‍थ केयर पर खर्च नहीं उठा सकते.मार्केट इंटेलिजेंस फर्म, अनअर्थिनसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में दिव्‍यांगों की आधी आबादी रोजगार के योग्य है, लेकिन उनमें से केवल 34 लाख को ही संगठित क्षेत्र, असंगठित क्षेत्र, सरकार के नेतृत्व वाली योजनाओं या स्वरोजगार में शामिल किया गया है. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, विकासशील देशों में काम करने की उम्र के दिव्‍यांग लोगों में से 80 से 90 प्रतिशत लोग बेरोजगार हैं.डब्ल्यूएचओ यह भी कहता है कि दिव्‍यांग लोगों का आमतौर पर स्वास्थ्य खराब होता है, उनकी शिक्षा का स्तर निम्न होता है, उन्‍हें कम आर्थिक अवसर मिलते हैं और बिना दिव्‍यांगता वाले लोगों की तुलना में ये लोग अधिक गरीब होते हैं. यह उनके दैनिक जीवन में आने वाली कई बाधाओं और उनके लिए उपलब्ध सेवाओं की कमी के कारण है.संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि दिव्‍यांग महिलाएं और लड़कियां विशेष रूप से दुर्व्यवहार की चपेट में हैं. ओडिशा में एक छोटे से सर्वेक्षण का एक उदाहरण देते हुए कहा गया कि लगभग सभी दिव्‍यांग महिलाओं और लड़कियों को घर पर पीटा गया था, 25 प्रतिशत बौद्धिक दिव्‍यांग महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया था और 6 प्रतिशत दिव्‍यांग महिलाओं को जबरन स्टेरलाइज्ड किया गया था.यूनेस्को का कहना है कि विकासशील देशों में 90 प्रतिशत दिव्‍यांग बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं.डब्ल्यूएचओ का कहना है कि हालांकि जनसांख्यिकीय प्रवृत्तियों के साथ दिव्‍यांग बच्चों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है, अधिकांश स्वास्थ्य प्रणालियों में दिव्‍यांग बच्चों की वर्तमान जरूरतों को पूरा करने की क्षमता नहीं है, ऐसे में बढ़ती मांग को पूरा करने की तो बात ही छोड़ देनी चाहिए.डब्ल्यूएचओ का कहना है कि दिव्‍यांग लोग गरीबी की चपेट में हैं, उनके पास रहने की सही जगह नहीं है. आम लोगों की तुलना में दिव्‍यांगों के पास अपर्याप्त भोजन होता है, रहने की सही जगह नहीं होती, साफ पानी नहीं होता और स्वच्छता तक उनकी पहुंच नहीं होती. रोजगार के लिए अधिक बाधाओं का सामना करते हुए उन्हें चिकित्सा देखभाल, सहायक उपकरणों या व्यक्तिगत सहायता से अतिरिक्त लागत भी उठानी पड़ सकती है.डब्ल्यूएचओ यह भी कहता है कि लगभग सभी को जीवन में किसी न किसी रूप में – अस्थायी या स्थायी – दिव्‍यांग्‍ता का अनुभव होने की संभावना है. इसमें यह भी कहा गया है कि आज, दिव्‍यांग लोगों की संख्या में काफी वृद्धि हो रही है और यह जनसांख्यिकीय परिवर्तन के कारण है, जिसमें जनसंख्या उम्र बढ़ने और पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों में वैश्विक वृद्धि शामिल है।

Check Also

आयुष्मान कार्ड नहीं है फिर भी क्या हम मुफ्त इलाज ले सकते हैं।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : आयुष्मान कार्ड जो दिव्यांगों के पास नहीं …