दिव्यांगों के साथ इससे बड़ा भ्रष्टाचार नहीं हो सकता जानिए क्या है ऐ।

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांग बच्चों को लेकर हुए सर्वे में चौकाने वाला खुलासा हुआ है। सर्वे रिपोर्ट बताती है कि 59891 दिव्यांग बच्चे ऐसे मिले जो कभी स्कूल गए ही नहीं। अब इन बच्चों का नामांकन संबंधित जिलों के स्कूलों में करवाया जा रहा है। हर जिले में हजार से पांच विद्यार्थियों की कुल संख्या 2,24,016 हो जाएगी। पहली बार शिक्षा विभाग के निर्देश पर बिहार शिक्षा परियोजना परिषद् द्वारा राज्य भर के सभी जिलों में दिव्यांग बच्चों का सर्वे करवाया गया। अगस्त 2022 से 30 अक्टूबर तक करवाये गये इस सर्वे में जीरो से 18 साल तक के बच्चों को शामिल किया हजार तक दिव्यांग बच्चे मिले है। उम्र के लिहाज से सबसे अधिक बच्चे पांचवी कक्षा में नामांकित होने यू डायस 2022 की मानें तो दिव्याने छात्रों की संख्या एक लाख 60 हजा के लगभग है, लेकिन बिहार शिक्ष परियोजना परिषद के सर्वे के बाद जब 60 हजार दिव्यांग छात्रों की संख्या गयी है।

Check Also

दिव्यांग लोन योजना बैंक ऑफ इंडिया स्टार मित्र पर्सनल लोन कैसे लिया जाता है।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांग लोन योजना नई लोन योजना से …