दिव्यांग जन अपने मोबाइल से ही अप्लाई कर सकते आयुष्मान कार्ड

सर्वप्रथम न्यूज़ सौरभ कुमार : दिव्यांग व्यक्तियों के लिए आयुष्मान कार्ड बनाने का सिलसिला कल यानी रविवार 17 सितंबर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 73वें जन्मदिन (Narendra Modi Birthday) के मौके पर फिर एक बार शुरू होने वाला है. तीसरे चरण में कार्ड बनवाने की प्रक्रिया बेहद आसान है. सरकार ने पहले और दूसरे चरण की प्रक्रिया को ध्यान में तीसरे चरण में खुद से रजिस्ट्रेशन का विकल्प देने का फैसला किया है.सेल्फ रजिस्ट्रेशन मोड में लाभार्थियों के पास वेरीफिकेशन के लिए ओटीपी, आइरिस और फिंगरप्रिंट और फेस-आधारित वेरीफिकेशन विकल्प होंगे. रजिस्ट्रेशन घर बैठे स्मार्टफोन के जरिए संभव हो सकेगा. लोगों के इसके लिए मोबाइल फोन पर आयुष्मान कार्ड ऐप (Ayushman Card App) का इस्तेमाल करना होगा. आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए सेल्फ रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया, जरूरी डाक्यूमेंट समेत अन्य जरूरी डिटेल यहां देख सकते हैं.आयुष्मान भारत योजना का दूसरा नाम आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (Ayushman Bharat Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana) कर दिया गया है. इस योजना के तहत सरकार फ्री में लोगों को स्वास्थ बीमा उपलब्ध कराती है. आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी को 5 लाख रुपये तक फ्री में इलाज की सुविधा मिलती है. इसके लिए लाभार्थी के नाम आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) जारी किया जाता है. इस कार्ड की मदद से लाभार्थी योजना के तहत सूचीबद्ध सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में अपना 5 लाख रुपये तक का मुफ्त में इलाज करवा सकते हैं.आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए केंद्र सरकार ने मोबाइल फोन पर भी आयुष्मान कार्ड ऐप (Ayushman Card App) के जरिए अप्लाई करने की सुविधा कल से देने वाली है. ऐप डाउनलोड करने के बाद लाभार्थी को मोबाइल नंबर की मदद से रजिस्ट्रेशन करना होगा. इसके बाद बताए गए सभी स्टेप्स को सावधानीपूर्वक भरना होगा. मोबाइल ऐप के जरिए ऑनलाइन आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए अप्लाई कर रहे लोगों को सलाह है कि वह अपने फोन में सभी जरूरी दस्तावेजों की डिजिटल कॉपी यानी सॉफ्ट कॉपी रख लें.मोबाइल नंबर,राशन कार्ड आधार कार्ड,निवास प्रमाण पत्र,पासपोर्ट साइज फोटो,वोटर कार्ड, पैन कार्ड या अन्य तीसरे चरण की शुरूआत के साथ सरकार की ओर से आयुष्मान कार्ड योजना को विस्तार देने की तैयारी है. इसी के साथ योजना में उन लोगों को भी लाभ दिया जाएगा जो किसी कारण वश इस योजना का लाभ नहीं ले पा रहे हैं. इस योजना के लिए कुछ पात्रता निर्धारित की गई है. यह पात्रता रखने वाले कैंडिडेट्स आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए अप्लाई कर सकेंगे.निम्न वर्ग के लोग के अलावा मध्यम वर्ग के लोग भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं.अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के वर्ग के लोग इस योजना का लाभ ले सकते हैं.वह व्यक्ति जो गांव में रहते हैं वह भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं.आदिवासी जनजाति के लोग इस योजना का लाभ ले उठा सकते हैं.आयुष्मान योजना का लाभ भूमिहीन किसान उठा सकते हैं.अगर परिवार में कोई दिव्यांग सदस्य है तो वह भी इस योजना का लाभ ले सकता है.वह लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं जिनके पास कच्चा मकान है.वे लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं जिनके पास मकान नहीं है और वे किराये के मकान में रहते हैं.निराश्रित लोग इस योजना का लाभ ले सकते हैं.दिहाड़ी कामगार-मजदूर जिनमें चाय वाले, ठेला लगाने वाले, फुटपाथ पर सामान बेचने वाले, मकान बनाने वाले कारीगर और मजदूर लोग इस योजना का लाभ ले सकते हैं.आयुष्मान योजना के लिए पात्रता जांचने के लिए आप यूटीआईआईटीएसएल केंद्र जाकर पता लगा सकते हैं या 14555 पर काल कर सकते हैं.बता दें कि नेशनल हेल्थ अथॉरिटी (NHA) ने आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) बनाने में तेजी लाने के लिए आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (AB PM-JAY) लागू करने वाले 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 1 मार्च, 2021 को ‘आयुष्मान-आपके द्वार’ (AAD) कैंपेन शुरू किया. योजना के लॉन्च के दौरान में लाभार्थियों को कागज आधारित आयुष्मान कार्ड जारी किया गया था.इसी साल लाभार्थियों को PVC आयुष्मान कार्ड मुफ्त जारी करने का निर्णय लिया गया.आयुष्मान कार्ड में न केवल जागरूकता का सबसे प्रभावी माध्यम है, बल्कि यह लाभार्थी के हाथ में अधिकार और सशक्तिकरण का प्रतीक भी है. इसके अलावा, PVC आयुष्मान कार्ड लाभार्थियों के बीच स्वास्थ्य संबंधी व्यवहार में सुधार लाता है. एक आयुष्मान कार्ड पूरे भारत में योजना की एक समान पहचान बनाने में मदद करता है.आयुष्मान आपके द्वार वर्जन एक (Ayushman Apke Dwar 1.0) से प्रेरणा लेते हुए केंद्र की सरकार ने ‘आयुष्मान-आपके द्वार वर्जन दो’ (Ayushman -Apke Dwar 2.0) को अगस्त 2022 से कैंपन को रिलॉन्च किया. इस बार घर-घर जाकर आईटी प्लेटफॉर्म, मोबाइल एप्लिकेशन आधारित कार्ड क्रिएशन और FLWs की भागीदारी के जरिए आयुष्मान कार्ड बनाने का कैंपेन चलाया गया. नतीजतन सरकार ने दूसरे चरण के अभियान के तहत वित्त वर्ष 2022-23 में 10 करोड़ से अधिक आयुष्मान कार्ड बनाए गए. हालांकि, इस चरण में यह देखा गया कि ज्यादातर आयुष्मान कार्ड ग्रामीण क्षेत्रों में बनाए गए थे. शहरी क्षेत्रों में, उच्च प्रवासन, व्यापक लाभार्थी आबादी और दिन के समय लाभार्थियों की उनके आवास पर अनुपलब्धता के कारण कार्ड बनाना अधिक चुनौतीपूर्ण रहा.इन चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने रविवार 17 सितंबर, 2023 यानी कल से आयुष्मान आपके द्वार वर्जन तीन (Ayushman Apke Dwar 3.0) लॉन्च करने का फैसला लिया है. तीसरे चरण के अभियान के तहत लाभार्थियों को खुद से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन(सेल्फ-रजिस्ट्रेशन) की सुविधा दी गई है. सेल्फ रजिस्ट्रेशन मोड में ओटीपी, आइरिस और फिंगरप्रिंट के आलावा फेस-आधारित वेरीफिकेशन की सुविधा होगी. इस चरण में आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए किसी भी मोबाइल डिवाइस का इस्तेमाल किया जा सकता है. वही दूसरी ओर देश के ज्यादातर राज्यों ने राशन कार्ड डेटा का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है. ऐसे में आयुष्मान आपके द्वार वर्जन तीन में आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए उचित मूल्य की दुकानों (फेयर प्राइस शॉप्स FPS) को बाकी FLWs के साथ शामिल किया जाएगा.

Check Also

हीमोफीलिया बीमारी से क्या होता है।

🔊 Listen to this सर्वप्रथम न्यूज सौरभ कुमर : बिहार में विश्व हीमोफीलिया दिवस मनाया जाता …